Home Top Ad

प्रधान मंत्री की रैली से पहले, फाइनल टच हगी

Share:
प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी शनिवार को रोजा मंडी के सामने रेलवे परिसर में किसान कल्याण रैली को संबोधित करेंगे। शुक्रवार को सभी व्यवस्थाओं को रैली स्थल पर अंतिम स्पर्श दिया गया था। रैली स्थल पर सख्त सुरक्षा व्यवस्था की गई है। स्थानीय पुलिस के साथ पीएसी और केंद्रीय बलों को भी तैनात किया जाएगा। प्रवेश द्वार के प्रवेश द्वार शुक्रवार को मेटल डिटेक्टर से लैस था। आगंतुकों की निगरानी की जा रही है


किसान कल्याण रैली में, राज्य के कई कैबिनेट मंत्रियों के साथ मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य भी रैली तक पहुंच रहे हैं। सुरक्षा के मामले में, आठ कंपनी पैरा सैन्य बल स्थापित किया गया है। यहां बनाई गई रैली स्थल और मंच को एसपीजी गुरुवार को कैद में लिया गया था। हालांकि, शुक्रवार को बिजली के चलते, रैली स्थल पर कई स्थानों पर मिट्टी की स्थिति बनाई गई है। रैली स्थल पर तीन विशाल पांडलों का निर्माण पूरा हो चुका है। किसी भी तरह के विकार के लिए ब्रूइंग नहीं किया गया है। रैली के दौरान कोई विकार नहीं है यह सुनिश्चित करने के लिए सभी व्यवस्थाएं की गई हैं।

हेलीपैड के पास से हटाई गईं बिजली की लाइनें हेलीपैड के पास से बिजली की लाइनों को हटा दिया गया है। दरअसल, बृहस्पतिवार को यहां वायु सेना के हेलीकॉप्टर से रिहर्सल किया गया था। इस दौरान रैली स्थल पर प्रधानमंत्री और उनके सुरक्षा दस्ते के लिए बनाए गए तीनों हेलीपैड पर बारी-बारी हेलीकॉप्टर को लैंडिंग और टेकअप कराया गया था। इसमें एक हेलीपैड के पास से गुजर रहीं बिजली की लाइन समस्या बन रही थीं। इन लाइन को हटा दिया गया है।

रैली में आने वाले लोगों के लिए पीने के पानी की कोई किल्लत नहीं होने दी जाएगी। इसके लिए जगह-जगह नगर निगम ने टैंकर रखवाए हैं। पंडालों में मटके और वाटर कूलर भी रखवाए गए हैं। रैली से एक दिन पहले सभी व्यवस्थाओं को पूरा कर लिया गया है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली के दौरान पार्टी में किसी तरह की गुटबाजी सामने आ आए इसके लिए विशेष रूप से प्रदेश महामंत्री संगठन सुनील बंसल नजर रख रहे हैं। दो दिन से शाहजहांपुर में जमे महामंत्री संगठन ने गुटबाजी को लेकर जिला स्तर के कई नेताओं से अलग-अलग बात भी की है। भाजपा में गुटबाजी उस समय सामने आई थी जब 17 जुलाई को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के यहां पहुंचने से पहले पुलिस लाइंस हेलीपैड पर मौजूद विधायक रोशन लाल वर्मा और जिला पंचायत अध्यक्ष के बीच झड़प हो गई थी। दोनों ने एक दूसरे पर काफी कीचड़ उछाला गया था। प्रधानमंत्री की रैली से पहले इस स्थिति को लेकर हाई कमान चिंतित था। ऐसे में प्रदेश महामंत्री संगठन सुनील बंसल को विशेष जिम्मेदारी दी गई है। पार्टी के एक जिला महामंत्री ने बताया कि रैली में विधायकों, सांसदों को जनता को लाने का जो लक्ष्य दिया गया है प्रदेश महामंत्री संगठन उसकी भी निगरानी करेंगे। इससे यह तय किया जाएगा कि किसने रैली को ऐतिहासिक बनाने के लिए पूरे मनोयोग के साथ काम नहीं किया।